एक छाँह

           

एक छाँह अपने मन को नहीं ताकता है ,
वहाँ थोड़ा उजाला तो है पर जाना नहीं चाहता ।

कहता है,मैं मुसाफिर हूँ चलता रहता हूँ साथ !
पर अगर जाऊंगा तो प्रेम-नीर में वह पूरा जल जाएगा। 

और मैं लौट नहीं पाऊंगा अबके ! वहीं रह जाऊंगा !

Advertisements

2 thoughts on “      एक छाँह

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s