#लेनिन चौक : लिट्टी-समोसे वाले चक्कर चौक से आगे पड़ता है !

हर एक लाश समान वेदना की हकदार है , चूंकि लोग दे रहे तो कोई आश्चर्य भी नहीं है कि, वह लेते हैं । 
लेकिन मैं उन चाँडालो के पास  हूँ ।जो अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर चुके हैं , रुदाली की उपयोगिता समाज के हिस्से छोड़ वह भी यही आयेगा । 

मानव केवल बिना पूँछ वाला शरीर नहीं है और सिर्फ वही नहीं ,कुछ मैं भी जला रहा हूँ !

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s